Tuesday, May 10, 2011



ये कौनसी सरगोशियाँ महक रही है कबसे
इन आवाजोंका लम्स अनछुआसा है कानोंमें

शायद रुहसी कोई चिज़ जिस्ममें रहती है..

2 comments: